ख़बर शेयर करें -

पवलगढ़, कालाढूंगी। 

भागदौड़ भरी जिंदगी में आज हर दूसरा इंसान किसी न किसी रोग से ग्रसित है। आदमी का शरीर बीमारियों का घर बन चुका है। कोरोना काल के बाद से लोगों का झुकाव आयुर्वेद की ओर बड़ा है और पिछले नौ सालों से जिले के पवलगढ़ स्थित गौ आश्रम में वैद्य प्रदीप भंड़ारी गौ मूत्र के माध्यम से लोगों का इलाज कर रहे हैं उनके आश्रम में लोगों की भीड़ लगी रहती है। पिछले नौ सालों से अपने आयुर्वेद के ज्ञान और गौ मूत्र से कैंसर जैसे आसाध्य रोग से जूझ रहे मरीजों को ठीक कर चुके हैं। 

इस बात की तस्दीक के लिए हम उनके कोटाबाग ब्लाक के अंतर्गत पवलगढ़ गांव स्थित आश्रम पहुंचे, जहां तमाम लोगों ने दवाई के फायदे बताए तो कुछ लोग ऐसे भी थे जो कैंसर जैसी बीमारी से जंग लड़ रहे हैं और प्रदीप की दवाई से उनके शरीर में काफी फायदा हुआ है। गौ मूत्र से निर्मित दवा लेने के लिए  लोग दिल्ली, मुंबई, यूपी सहित देश कोने-कोने से यहां पहुंच रहे हैं वहीं विदेश में रह रहे नाते रिश्तेदारों तक को लोग दवा भेज रहे हैं। कई बड़े चेहरे, नेता और हस्तियां यहां दवाई लेने आते हैं। 

बड़े बड़े अस्पतालों से निराश हो चुके कई मरीजों को भी वैद्य प्रदीप भंडारी अपनी चमत्कारी दवा से ठीक कर चुके हैं। उन्होंने पिछले नौ वर्षों में अनगिनत कैंसर रोगियों को नया जीवन दिया है। कैंसर के अलावा गठिया, शुगर, मिर्गी, थाईराईड, मोटापा, मस्तिष्क रोग, हैपेटाईटिस बी और सी सहित तमाम ऐसे असाध्य रोगों को वैद्य प्रदीप भंडारी ने जड़ से खत्म करके लोगों के जीवन में उम्मीद की नई किरण जगाई है। वैद्य प्रदीप भंडारी की चमत्कारी दवा कलयुग में संजीवनी बूटी से कम नहीं। उनके पास कई ऐसे मरीज आये जिन्हें बड़े बड़े हास्पिटलों के चिकित्सकों ने जवाब दे दिया था। इनकी इस उपलब्धि पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के द्वारा भी इनको सम्मानित किया जा चुका है।

More Stories

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments