ख़बर शेयर करें -

चम्पावत। सुप्रसिद्ध माँ बाराही धाम में बग्वाल (असाड़ी) मेला-2022 के सफल संचालन हेतु विभिन्न व्यवस्थाओं को लेकर सोमवार को देवीधुरा मेला स्थल सभागार में जिलाधिकारी नरेंद्र सिंह भण्डारी की अध्यक्षता में संपन्न हुई बैठक में मेला के आयोजन के संबंध में विभिन्न व्यवस्थाओं को लेकर चर्चा की गई।

बैठक में 8 अगस्त 2022 से 19 अगस्त 2022 कुल 12 दिन की मेला अवधि को निर्धारित किया गया। मेले का मुख्य आकर्षण बग्वाल मेला (पाषाण युद्ध )12 अगस्त को होगा।

जिलाधिकारी ने बग्वाल मेला हेतु उप जिलाधिकारी पाटी/ मेला मजिस्ट्रेट और साथ ही अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत को मेला अधिकारी को बैठक कर आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। बैठक में मेले का उद्घाटन 8 अगस्त को मुख्यमंत्री से कराए जाने की सहमति मंदिर कमेटी द्वारा रखी गई। बग्वाल मेला क्षेत्र 5.5 किलोमीटर निर्धारित की गई। इस क्षेत्र अंतर्गत पुलिस सुरक्षा व्यवस्था, यातायात व्यवस्था, पानी व्यवस्था, विधुत व्यवस्था व वाहन पार्किंग व्यवस्था पर चर्चा की गई। उन्होंने कहा कि पुलिस पेट्रोलिंग के साथ ही मेला क्षेत्र में सीसीटीवी कैमरा लगाए जाएंगे।

जिलाधिकारी ने पुलिस उपाधीक्षक को आवश्यक सुरक्षा सुरक्षा व्यवस्था हेतु पुलिस बल तैनात करने के निर्देश दिए।

बैठक में यातायात व्यवस्था सुगम बनाने हेतु आपदा की दृष्टि से संवेदनशील स्थलों में जेसीबी मशीन आदि तैनात करने के साथ ही सड़कों का उचित रखरखाव, गड्ढे भरने व नाली निर्माण आदि करने के निर्देश दिए सम्बंधित अधिकारियों को दिए।

मेला कमेटी द्वारा मेला अवधि के दौरान शराब की दुकानों को पूर्ण तरह बंद रखने की मांग की गई। इस पर जिलाधिकारी ने आबकारी विभाग को पूर्ण मेला अवधि में देशी-अंग्रेजी शराब की दुकानें बंद रखने और मेला क्षेत्र में अवैध शराब की बिक्री पर अंकुश लगाने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने मेला अवधि में रसोई गैस की पूर्ण व्यवस्था हेतु जिला पूर्ति अधिकारी को निर्देश देने के साथ ही क्षेत्र के पेट्रोल पंपों में डीजल इंजन का स्टॉक रखने के निर्देश दिए।

इसके साथ ही उन्होंने दूध तथा दूध से निर्मित सामग्री की उचित आपूर्ति करने के निर्देश दिए।

आवास की व्यवस्था के संबंध में जिलाधिकारी ने कहा कि क्षेत्र के विश्रामग्रहों समेत राजकीय महाविद्यालय देवीधुरा तथा विभिन्न विद्यालयों को आरक्षित किया जाए। आवास व्यवस्था हेतु जिला पर्यटन विकास अधिकारी तथा केएमवीएन को निर्देश दिए।

उन्होंने अधिशासी अभियंता जल संस्थान को पेयजल की उचित व्यवस्था के साथ ही टैंकरों से भी पेयजल की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। साथ ही जिलाधिकारी ने मेले में विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन हेतु सूचना एवं संस्कृति विभाग को कार्यक्रम आवंटन हेतु निर्देश दिए ताकि मिले को और अधिक भव्य बनाया जा सके।

बैठक में मेले के दौरान टैक्सियों के उचित किराए का निर्धारण किए जाने के साथ ही दुर्घटनाओं को रोके जाने हेतु लगातार वाहनों का निरीक्षण करने के निर्देश पुलिस विभाग तथा परिवहन विभाग को दिए।

जिलाधिकारी ने कहा कि यात्रियों को बेहतर तथा सुविधाजनक परिवहन व्यवस्था मिले व्यवस्था मिले इस हेतु वाहनों की उचित व्यवस्था इसलिए वह पूर्व से ही वाहनों की फिटनेस का निरीक्षण संबंधित विभाग द्वारा कर लिया जाए।

जिलाधिकारी ने मेले के दौरान समाज कल्याण द्वारा पेंशन यूआईडी कार्ड बनाए जाने हेतु कैंप लगाने व मेले के दौरान विभिन्न खेलकूद कार्यक्रम गत वर्षो की भांति कराए जाने हेतु उपजिलाधिकारी, जिला क्रीड़ा अधिकारी, मुख्य शिक्षा अधिकारी को अभी से तैयारी करने के निर्देश दिए। मेले के दौरान उचित विद्युत व्यवस्था के संबंध में जिलाधिकारी ने अधिशासी अभियंता यूपीसीएल को निर्देश दिए कि विद्युत सुचारु रखे जाने हेतु वैकल्पिक व्यवस्था जनरेटर आदि की व्यवस्था पूर्व ही कर ली जाए।

अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि देवीधुरा में चिकित्सकों की व्यवस्था हो गई हैं। मेले के दौरान देवीधुरा चिकित्सालय में अतिरिक्त चिकित्सकों, स्टाफों के साथ ही पर्याप्त मात्रा में दवा, एंबुलेंस व साफ सफाई की व्यवस्था हेतु स्वच्छक रखे जाएंगे। जिलाधिकारी ने कहा की मेला क्षेत्र अंतर्गत विभिन्न स्थानों में अस्थाई शौचालय का निर्माण कराया जाएगा। साथ ही मेले के दौरान मेला परिसर में पॉलिथीन पूर्ण रुप से प्रतिबंधित रहेगी।

बैठक में चारों खामों के आए व्यक्तियों द्वारा जिलाधिकारी के समक्ष विभिन्न ग्रामीण सड़क एवं पैदल मार्गों को ठीक कराए जाने की मांग की गई। इस पर जिलाधिकारी ने संबंधित विभाग को तुरंत मार्ग ठीक करने के साथ ही उपजिलाधिकारी पाटी को एक सप्ताह में पुनः ग्रामीणों तथा विभागों के साथ बैठक कर इन समस्याओं का समाधान करने तथा सड़क मार्गों में गड्ढों को भरने का कार्य कराने के निर्देश दिए।

बैठक में विधायक लोहाघाट खुशाल सिंह अधिकारी ने कहा कि वर्तमान मुख्यमंत्री द्वारा इस मेले को राजकीय मेला घोषित किया गया तथा देवीधुरा चिकित्सालय में चिकित्सकों की तैनाती करने लिए मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया। साथ ही इस मेले को भव्य रुप से संपन्न कराए जाने हेतु सहयोग की अपील की।

इस दौरान अध्यक्ष जिला पंचायत ज्योति राय ने कहा कि मेले को भव्य रूप से मनाने में जिला पंचायत अपना पूर्ण सहयोग प्रदान करेगा। बैठक के दौरान अपने संबोधन में जिलाधिकारी ने अवगत कराया कि मुख्यमंत्री घोषणा के अनुसार बग्वाल मेले को राजकीय घोषित करने हेतु शासनादेश प्राप्त हो गया है। मेले के आयोजन हेतु शासन से धनराशि की मांग की गई है। इस वर्ष बग्वाल मेला शासकीय रूप से मनाया जाएगा। साथ ही जिलाधिकारी ने कहा मेले को पूर्णतः माननीय उच्च न्यायालय के निर्देशों के अनुसार मनाया जाएगा। 

मेले को संपन्न कराने हेतु उप जिलाधिकारी पाटी की अध्यक्षता में समिति गठित की जाएगी। मेले को सभी के सहयोग व भव्य रुप से संपन्न किया जाएगा। मेले से पूर्व जो भी समस्याएं हैं या व्यवस्था करनी है वह शीघ्र ही पूर्ण कर ली जाएंगी। बैठक में अध्यक्ष मंदिर कमेटी खीम सिंह लमगड़िया, दीपक बिष्ट, राजू बिष्ट, जगदीश सिंह, बिशन सिंह चम्याल, ब्लॉक प्रमुख पाटी सुमनलता, अपर जिलाधिकारी हेमन्त कुमार वर्मा, उपजिलाधिकारी पाटी मनीष बिष्ट, पुलिस उपाधीक्षक विपिन पन्त, अधिशासी अधिकारी जिला पंचायत भगवत पाटनी समेत जनप्रतिनिधि, मंदिर कमेटी के सदस्य तथा जनपदीय अधिकारी समेत अन्य उपस्थित रहें।

More Stories

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments